Home Shayari {Best 2021} मुँह तोड़ जवाब देने वाली शायरी – Muh Tod Jawab...

{Best 2021} मुँह तोड़ जवाब देने वाली शायरी – Muh Tod Jawab Shayari

आइये आपका हमारी इस पोस्ट में स्वागत है, आज हम आपके साथ “मुँह तोड़ जवाब देने वाली शायरी” और स्टेटस साझा करने जा रहे है, यह “Muh Tod Jawab Shayari” कलेक्शन इस साल एक दम नया शायरी का कलेक्शन है, जिसे आप निचे पढ़ सकते है !

Muh Tod Jawab Shayari

मेरे व्यक्तित्व और मेरे व्यवहार को एक जैसा मत आंकना
भले ही मेरा व्यक्तिव बहुत अच्छा है
लेकिन मेरा व्यवहार कैसा होगा यह तुम पर निर्भर करता है !

Mere vyaktitva aur mere vyavhar ko ek jaisa mat aankna
Bhale hi mera vyaktiva bahut acchha hai
Lekin mera vyavahar kaisa hoga yeh tum par nirbhar karta hai !

नवाबी हमारे खून में है, हमें किसी की गुलामी करना पसंद नहीं !
Nawabi hamare khoon mein hai, hume kisi ki gulami karna pasand nahi !

कुछ लोग दोस्त के मुखोटे में दुश्मन होते है,
जो बुरे समय में ही असली चेहरा दिखा ही देते है !

Kuchh log dost ke mukhote mein dushman hote hai,
Jo bure samay mein hi asli chehra dikha hi dete hai !

मुझे अपनी सोच से आंकने की कोशिश मत कर,
क्यों की जहाँ पर जाकर तेरी सोच ख़त्म होती है
वही से इस बादशाह की असली कहानी शुरू होती है !

Mujhe apni soch se aankane ki koshish mat kar,
Kyonki jahan par jaakar teri soch khatm hoti hai
Wahi se is badshah ki asali kahani shuru hoti hai !

मुश्किलों मे पले है और संघर्षो में खिले है,
ये जीवन के संघर्ष हमें जागीर में मिले है !

Mushkilo me pale hai aur sangharsho mein khile hai,
Ye jeevan ke sangharsh hume jageer mein mile hai !

चाहने वालों के लिए हम अपनी जान दे देते है
पर अपने दुश्मनों की हम जान ले भी लेते है !

Chahne walo ke liye ham apni jaan de dete hai
Par apne dushmano ki ham jaan le bhi lete hai !

मेरी हौसले को आजमाने की गुस्ताखी मत करना,
तूफानों के भी रुख मोड़ने का हौसला रखता हूँ मैं !

Meri hausle ko aazmane ki gustakhi mat karna,
Toofano ke bhi rukh modne ka hausla rakhata hu main !

Muh-Tod-Jawab-Shayari (2)

Also Read: धमाकेदार स्टेटस हिंदी 2021

Also Read: Badshah Shayari & Status

मुँह तोड़ जवाब देने वाली शायरी

मेरी ख़ामोशी को तुम मेरी बुज़दिली मत समझना…
जब तक बन्दूक चले नहीं तब तक खिलौना ही लगती है !

Meri khamoshi ko tum meri buzdili mat samajhna…
Jab tak bandook chale nahi tab tak khilauna hee lagati hai !

मत पूछ, हैसियत तो हमारी इतनी हैं कि…
जब हम आंख उठाते हैं तो राजा भी हमे सलाम ठोकते है !

Mat poochh, haisiyat to hamari itni hai ki…
Jab ham aankh uthate hai to raja bhi hume salam thokte hai !

इतनी कामयाबी हासिल करूंगा कि
मुझसे मिलने के लिये तुम्हें लाइन में खडा होना होगा !

Itni kamyabi hasil karunga ki
Mujhse milne ke liye tumhe line mein khada hona hoga !

परिस्थितियों में वो बदलते है जो कमज़ोर होते हें,
हम तो परिस्थितियों को ही बदल कर रख देते हैं !

Paristhitiyon mein wo badalte hai jo kamjor hote hai,
Ham to paristhitiyon ko hi badal kar rakh dete hai !

हमारे बारे में तुम अपनी सोच को थोड़ा बदल लो,
मुँह पर बुरा कह लेते है
पर अपने दिल में किसी के लिए बुरा रखते नहीं !

Hamare baare mein tum apni soch ko thoda badal lo,
Munh par bura kah lete hai
Par apne dil mein kisi ke liye bura rakhate nahi !

हमसे मुकाबला करना है तो मैदान में आ जाना,
यूँ बुजदिलों की तरह पीठ पीछे वॉर मत करना !

Hamse muqabla karna hai to maidan mein aa jana,
Yoon bujdilo ki tarah peeth peeche war mat karna !

अजीब सी आदत है मेरी
दोस्ती हो या दुश्मनी
बहुत शिद्दत से निभाता हूँ !

Ajeeb si aadat hai meri
Dosti ho ya dushmani
Bahut shiddat se nibhata hoon !

हम किसी के भी हाथों बिक जाने को तैयार नही,
बादशाह है हम, तेरे शहर का अखबार नही !

Ham kisi ke bhi hatho bik jaane ko taiyar nahi,
Badshah hai ham, tere shahar ka akhbar nahi !

Also Read: खुद पर भरोसा शायरी

Also Read: Matlabi Dost Shayari

DMCA.com Protection Status