{Best 2022} Koi Kitna Bhi Apna Ho Pehle Apna Dekhta Hai Shayari

कोई कितना भी अपना हो पहले अपना देखता है शायरी: Hello dosto, Aaj hum aapke sath is post mein Koi Kitna Bhi Apna Ho Pehle Apna Dekhta Hai Shayari, Koi Kitna Bhi Apna Ho Pehle Apna Dekhta Hai Status aur Koi Kitna Bhi Apna Ho Pehle Apna Dekhta Hai Quotes sajha karne jaa rahe hai.

Koi Kitna Bhi Apna Ho Pehle Apna Dekhta Hai Shayari

कोई कितना भी अपना हो पहले अपना देखता है।
Koi Kitna Bhi Apna Ho Pehle Apna Dekhta Hai.

Koi-kitna-bhi-apna-ho-pehle-apna-dekhta-hai-shayari (1)

मत कर अभिमान अपनों पर, यहाँ कोई अपना नहीं होता है,
चाहे वो कितना भी अपना हो, पहले अपना ही देखता है।

Mat Kar Abhiman Apno Par, Yaha Koi Apna Nhi Hota Hai,
Chahe Wo Kitna Bhi Apna Ho Pehle Apna Hi Dekhta Hai.

दुनिया की महफ़िल में संभल कर रहना ग़ालिब,
क्योंकि यहां हर कोई मतलब का चोला पहने है।

Duniya Ki Mehfil Mein Sambhal Kar Rehna Galib,
Kyonki Yahan Har Koi Matalb Ka Chola Pehne Hai.

यहाँ पर कौन अपना है और कौन पराया पता नहीं,
कौन साथ निभाएगा और कौन नहीं ये भी पता नहीं।

Yaha Par Kaun Apna Hai Aur Kaun Paraya Pata Nhi,
Kaun Sath Nibhayega Aur Kaun Nhi Ye Bhi Pata Nahi.

इस दुनिया में हर कोई सिर्फ अपना ही सोचता है,
फिर वो कितना भी अपना हो, पहले अपना ही देखता है।

Is Duniya Mein Har Koi Sirf Apna Hi Sochta Hai,
Phir Wo Kitna Bhi Apna Ho, Pehle Apna Hi Dekhta Hai.

अक्सर बेपरवाह हो जाते है वो लोग,
जिन्हें हद से ज्यादा प्यार करने वाला मिल जाता है।

Aksar Beparwah Ho Jaate Hai Wo Log,
Jinhe Had Se Jyada Pyaar Karne Wala Mil Jaata Hai.

ये दुनिया स्वार्थ के पहियों पर चलती है,
बिना स्वार्थ के कोई हमारे साथ नहीं चलता !

Ye Duniya Swarth Ke Pahiyon Par Chalti Hai,
Bina Swarth Ke Koi Hamare Sath Nhi Chalta.

Also Read: Koi Kisi Ka Nahi Hota Shayari

Koi Kitna Bhi Apna Ho Pehle Apna Dekhta Hai Status

मत कर अभिमान अपनों पर, यहाँ कोई अपना नहीं होता है,
चाहे वो कितना भी अपना हो, पहले अपना ही देखता है।

Mat Kar Abhiman Apno Par, Yaha Koi Apna Nhi Hota Hai,
Chahe Wo Kitna Bhi Apna Ho Pehle Apna Hi Dekhta Hai.

Koi-kitna-bhi-apna-ho-pehle-apna-dekhta-hai-shayari (2)

वो अपना ही होता है जो सबसे अधिक रुलाता है,
वो अपना ही होता है जो सबसे अधिक दिल दुखता है।

Wo Apna Hi Hota Hai Jo Sabse Adhik Rulata Hai,
Wo Apna Hi Hota Hai Jo Sabse Adhik Dil Dukhata Hai.

कभी कभी ज़िन्दगी में ऐसा भी होता है,
के हमारा कोई अपना ही अपना नहीं होता।

Kabhi Kabhi Zindagi Me Aisa Bhi Hota Hai,
Ke Hamara Koi Apna Hi Apna Nhi Hota.

कोई अपना होने का इस तरह किरदार निभाता है,
कि हमें उनका असली रूप कभी दिखाई ही नहीं देता।

Koi Apna Hone Ka Is Tarah Kirdar Nibhata Hai,
Ki Hume Unka Asali Roop Kabhi Dikhai Hi Nhi Deta.

सच ही कहा है किसी ने,
हमें तो अपनों ने लूटा गैरों में कहाँ दम था,
हमारी कश्ती भी वहां डूबी जहाँ पानी कम था।

Sach Hi Kaha Hai Kisi Ne,
Hume To Apno Ne Luta Gairo Me Kaha Dm Tha,
Hamari Kasti Bhi Waha Doobi Jaha Paani Km Tha.

जो हमारे लिए जान तक देने की बातें करते है,
वक़्त आने पर वहीं लोग सबसे पहले मुकर जाते है।

Jo Hamare Liye Jaan Tak Dene Ki Baate Karte Hai,
Waqt Aane Par Wahi Log Sabse Pehle Mukar Jaate Hai.

इस दुनिया में कोई किसी का नहीं होता,
यहां पर तो अपना भी अपना नहीं होता।

Is Duniya Mein Koi Kisi Ka Nhi Hota,
Yahan Par To Apna Bhi Apna Nhi Hota.

Also Read: Koi Apna Nahi Hota Shayari

Koi Kitna Bhi Apna Ho Pehle Apna Dekhta Hai Quotes

दुनिया की महफ़िल में संभल कर रहना ग़ालिब,
क्योंकि यहां हर कोई मतलब का चोला पहने है।

Duniya Ki Mehfil Mein Sambhal Kar Rehna Galib,
Kyonki Yahan Har Koi Matalb Ka Chola Pehne Hai.

Koi-kitna-bhi-apna-ho-pehle-apna-dekhta-hai-shayari (3)

जिसके बारे में हम खुद से ज्यादा सोचते है,
वहीं लोग हमसे पहले खुद के बारे में सोचते है।

Jiske Baare Mein Hum Khud Se Jyada Sochte Hai,
Wahi Log Humse Pehle Khud Ke Baare Mein Sochte Hai.

यहाँ हर कोई अपना होने का दिखावा करता है,
मतलब निकलने के बाद हर कोई अपना रंग दिखाता है।

Yahan Har Koi Apna Hone Ka Dikhawa Karta Hai,
Matalab Nikalne Ke Baad Har Koi Apna Rang Dikhata Hai.

आज यहाँ कोई अपना नही होता,
लोग तभी तक अपने होते है,
जब तक उनका कोई स्वार्थ होता है।

Aaj Yaha Koi Apna Nhi Hota,
Log Tabhi Tak Apne Hote Hai,
Jab Tak Unka Swarth Koi Hota Hai.

हर किसी पे भरोसा मत कर ग़ालिब,
यहाँ तो अपने भी अपने नहीं होते।

Har Kisi Pe Bharosa Mat Kar Ghalib,
Yahan To Apne Bhi Apne Nahi Hote.

कोई कितना भी अपना हो, वो पहले अपना ही देखता है,
यहाँ तो ऐसा ही होता है, यहाँ कोई अपना नहीं होता है।

Koi Kitna Bhi Apna Ho, Wo Pehle Apna Hi Dekhta Hai,
Yaha Yo Aisa Hi Hota Hai, Yaha Koi Apna Nahi Hota Hai.

सच ही कहा है किसी ने,
हमें तो अपनों ने लूटा गैरों में कहाँ दम था,
हमारी कश्ती भी वहां डूबी जहाँ पानी कम था।

Sach Hi Kaha Hai Kisi Ne,
Hume To Apno Ne Luta Gairo Me Kaha Dm Tha,
Hamari Kasti Bhi Waha Doobi Jaha Paani Km Tha.

*****

Last Words: Hum aasha karte hai aapko is post mein sajha ki gayi Koi Kitna Bhi Apna Ho Pehle Apna Dekhta Hai Shayari pasand aayi hogi. Aap chahe to is shayari ko apne whatsapp ya facebook status par bhi rakh sakte hai.

Also Read: Kisi Ke Liye Kitna Bhi Karo Quotes